सहारनपुर में दवाओं की ओवर रेटिंग और कालाबाजरी करने वाले बख्से नही जाएंगे - अखिलेश सिंह

सहारनपुर में दवाओं की ओवर रेटिंग और कालाबाजरी करने वाले बख्से नही जाएंगे – अखिलेश सिंह

दवाई लेते समय मेडिकल स्टोर से पक्का बिल लें – जिलाधिकारी
दवाओं की ओवर रेटिंग और कालाबाजरी करने वाले
बख्से नही जाएंगे – अखिलेश सिंह

सहारनपुर। जिलाधिकारी अखिलेश सिंह ने कहा कि जीवन रक्षक और जरूरी दवाईयों की काला बाजारी करने वालों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही की जायेंगी। उन्होंने कहा कि ऐसे मेडिकल स्टोरों को चिन्हित कर उनके लाईसेंस को निरस्त भी किया जायेंगा। उन्होंने कहा कि आवश्यक दवाओं, प्लस ओक्सोमीटर, थर्मल स्केनर आदि की ओवर रेटिंग और कालाबाजारी किसी भी हाल में क्षम्य नहीं होगी। उन्होंने मेडिकल स्टोर संचालकों से कहा कि पक्का बिल न देने वालों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। उन्होने निर्देश दिये कि कोविड-19 के नियमों का खुद भी पालन करें और दवाई खरीदने वालों से भी नियमों का पालन कराएं।

अखिलेश सिंह और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉक्टर एस0चन्नप्पा ने आज जिला चिकित्सालय रोड़ पर स्थित मेडिकल काॅलेज के औचक निरीक्षण के दौरान यह निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक मेडिकल स्टोर पर सोशल डिस्टेंसिंग और माॅस्क का कडाई से अनुपालन सुनिश्चित कराया जाए। उन्होने कहा कि मेडिकल स्टोर पर कार्यरत कर्मी हैण्ड ग्लब्स, मास्क और सेनेटाइजर का निरंतर प्रयोग करते रहें। उन्होने कहा कि मरीज अथवा मरीज के तीमारदारों को दवाई देते वक्त दवाई बिल भी दिया जाए। दवा सही दर पर ही दी जाए। उन्होंने कहा कि किसी भी मरीज या उसके तीमरदार को दवा के नाम पर उत्पीड़न न किया जाए। उन्होंने कहा कि दवाईयों को डाॅक्टर के लिखे पर्चे के बाद ही दी जाए।

जिलाधिकारी ने जिला अस्पताल क्षेत्र में निरीक्षण के दौरान दुआ मेडिकल सैन्टर, राणा मेडिकल स्टोर, आस्था मेडिकल स्टोर, नीरज मेडिकल स्टोर आदि के संचालकों और कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिये और दवाई की बिल बुक चैक की। उन्होने आम जन का आह्वान करते हुए कहा कि दवाई लेते समय पक्का बिल ही लें। उन्होंने कहा कि दवाईयों की अधिक कीमत लेने वाले मेडिकल स्टोर संचालकों के बारे में मुख्य चिकित्सा अधिकारी को जानकारी दें। उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को भी निर्देश दिए कि वे समय-समय पर मेडिकल स्टोरों का निरीक्षण कर आवश्यक कार्यवाही करते रहें

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999