युद्ध के पहले ही दिन सक्रिय होती सरकार तो नहीं फंसते भारतीय

*सहारनपुर* युद्धरत यूक्रेन से लौटे सहारनपुर निवासी आज़म खान और शुएब कुरेशी ने सांसद के आवास पर पहुंचकर मुलाक़ात की, सकुशल भारत वापसी के लिए सांसद के प्रयास के लिए धन्यवाद किया यूक्रेन के बीच युद्ध में यूक्रेन में फंसे हुए सहारनपुर निवासी भारतीय छात्र आजम खान तथा शुएब कुरेशी ने सहारनपुर लोकसभा सांसद हाजी फजलुर्रहमान के आवास पर पहुंचकर उनसे मुलाकात की और सकुशल देश वापसी के लिए सांसद हाजी फजलुर्रहमान द्वारा किए गए प्रयास की सराहना की और उनका धन्यवाद किया। दोनों छात्रों ने इस दौरान बताया कि यूक्रेन से भारत वापसी तक इन्होंने हर दिन बमबारी और गोलियों की दहशत के बीच गुज़ारे हैं। सांसद हाजी फजलुर्रहमान ने कहा कि भारत सरकार रूस और यूक्रेन के युद्ध में पहले ही दिन सक्रिय हो जाती तो बच्चों की ये हालत नहीं होती। यूक्रेन में भारतीयों पर जो बीत रही है उसके लिए केंद्र की सरकार जिम्मेदार है। सांसद हाजी फजलुर्रहमान ने कहा कि जिस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार को भारतीयों को निकालने के प्रयास करने चाहिए थे उस समय भारत सरकार उत्तर प्रदेश चुनाव में रैलियों में व्यस्त थी। सांसद हाजी फजलुर्रहमान ने कहा कि उन्होंने युद्ध के पहले ही दिन से प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री, यूक्रेन में भारतीय दूतावास आदि से से पत्राचार कर भारतीयों की सकुशल वापसी के लिए प्रयास किए। सांसद हाजी फजलुर्रहमान ने केंद्र सरकार से मांग करते हुए कहा कि सरकार भारतीयों की सकुशल वापसी के प्रयास तेज़ करे और जितने भारतीय फंसे हुए हैं उन्हें जल्द से जल्द देश वापस लाए। इस दौरान सांसद पुत्र मोनिस रज़ा, आकिल फारुक एडवोकेट, अरशी हसन, मुन्नू खान, सोनू कुरेशी, रिज़वान जोगी पार्षद, ज़मीर अहमद शाह, अंज़र कुरेशी मोनू, मोहम्मद हमज़ा, अहताशाम गाड़ा ताजपुरा, शाह नज़र, सय्यद हस्सान आदि उपस्थित रहे।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *