सहारनपुर में दूसरे प्रदेशों से आए मजदूरों को रोका

सहारनपुर में दूसरे प्रदेशों से आए मजदूरों को रोका

सहारनपुर। दुसरे राज्यों से यूपी के कामगारों का सहारनपुर की सीमा में प्रवेश का सिलसिला लगातार जारी है। पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश से कामगार अपने घरों के लिए पलायन करने लगे हैं। सैकड़ों किमी की दूरी से पैदल या साइकिलों से वे तय कर सहारनपुर के सरसावा बार्डर सहित अन्य जगहों पर पहुंचे। जिन्हें पुलिस ने रोक दिया। वहीं, पिलखनी स्थित राधा स्वामी सत्संग भवन मेजर सेंटर में आश्रय ले रहे 1900 कामगारों को उनके गंतव्य को चिकित्सीय परीक्षण के बाद भेजा गया।
बुधवार रात हिमाचल प्रदेश के कुल्हाल से लखीमपुर खीरी एवं सरायबस्ती के 43 मजदूर यमुना नदी से होते हुए यूपी की सीमा में पहुंचे। इन्हें थाना मिर्जापुर पुलिस ने बादशाहीबाग चौकी पर रोक लिया। थाना प्रभारी विरेशपाल गिरी ने सभी मजदूरों को स्थानीय प्राथमिक विद्यालय में ठहराने की व्यवस्था की गई है। उन्होंने बताया कि मजदूरों ने उन्हें बताया कि वह दो दिन से भूखे है। उनके लिए रात में ही खाने की व्यवस्था कर दी गई थी।



फिलहाल सभी मजदूरों को यहीं रखा जाएगा। जैसे ही उनको भेजने की कोई व्यवस्था की जाती है, तो उन्हें यहां से नियमानुसार उनके घरों को वापस भेजा जाएगा। गागलहेड़ी में भी पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश से लौट रहे पूर्वी यूपी के विभिन्न जिलों के करीब ढाई सौ कामगारों को पुलिस ने रोक कर पहले खाना खिलाया। इसके बाद उन्हें सियाराम इंटर कालेज में ठहरा दिया गया है। इनमें से ज्यादातर मजदूर यहां पैदल और साइकिलों पर पहुंचे हैं। इनमें से कुछ तो रात और बाकी को सुबह रोका गया। एसओ भानू प्रताप ने बताया कि अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है जहां भेजने का आदेश होगा उसका अनुपालन किया जाएगा।



रामपुर मनिहारान से भी बृहस्पतिवार की सुबह पंजाब से आने वाले पूर्वी यूपी और बिहार के साइकिल सवार मजदूरों का जत्था गुजरा। इनकी संख्या करीब अस्सी रही। इनमें अधिकांश यूपी के आजमगढ़ जिले के रहने वाले थे।
चिलकाना पुलिस ने अंबाला और लुधियाना की फैक्ट्री बंद होने पर आ रहे 55 पुरुष और एक महिला कामगार को यमुना नदी पार करते हुए रोक लिया। ये सभी लोग बिहार के छपरा जनपद के रहने वाले हैं। एसओ अमित शर्मा ने बताया कि इन सभी को सुल्तानपुर के बारात घर में रखा गया है।
सहारनपुर जनपद के सरसावा बार्डर पर भी कामगारों को सैकड़ों की तादाद में रोका गया।



सभी को राधा स्वामी सत्संग भवन मेजर सेंटर में लाया गया। चिकित्सीय परीक्षण करने के बाद करीब 1900 कामगारों को विभिन्न माध्यमों से यूपी के बस्ती, श्रावस्ती, सीतापुर, गोंडा, सिद्घार्थनगर आदि जगहों के लिए भेजा गया।
नकुड़ में पंजाब से पहुंचे 35 कामगारों को पूर्व चेयरमैन धनीराम सैनी ने भोजन और मेडिकल जांच करा कर गंतव्य की ओर रवाना कर दिया। इसके अलावा लखनौती में भी नौ मजदूर हिमाचल प्रदेश से पैदल चलकर पहुंचे। एसआई मदनपाल सिंह ने पिलखनी भेज दिया।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999