सहारनपुर का पंजाबी समाज आखिर क्यों हो रहा है भाजपा से खफ़ा,जानिए बड़ी वजह

सहारनपुर का पंजाबी समाज आखिर क्यों हो रहा है भाजपा से खफ़ाजानिए बड़ी वजह

उत्तर प्रदेश के जनपद सहारनपुर में पंजाबी समाज को भाजपा का सबसे बड़ा वोट बैंक माना जाता है। इसी के चलते पंजाबी समाज हर चुनाव में भाजपा हाईकमान से अपने समाज के लिए कुछ बेहतर की उम्मीद रखता है।

लेकिन हमेशा पार्टी की अंदरूनी कलह के चलते पंजाबी समाज को जनपद में उपेक्षाओं का शिकार होना पड़ता है। हर बार की तरह एक बार फिर से पंजाबी समाज को नामित पार्षदों के चयन की प्रक्रिया में नगण्य सी भागीदारी दी गयी है। उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के करीबी होने के चलते केवल अमित गगनेजा को प्राधिकरण के सदस्य बनाया गया है। लेकिन पार्षदों के चयन को लेकर पूरे पंजाबी समाज में रोष पनपना शुरू हो गया है।



यहां हम आपको बताना चाहेंगे कि उत्तर प्रदेश के जनपद सहारनपुर को भाजपा का गढ़ माना जाता है। सहारनपुर जिले में अनेकों बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से लेकर,उप मुख्य मंत्री केशव प्रसाद सलीखे बड़े नेता अपनी दिलचस्पी दिखा चुके है। लेकिन भाजपा हाईकमान यहां की अंदरूनी कलह को मिटाने में पूरी तरह नाकाम साबित हुई है। परिणामस्वरूप पिछले कुछ बड़े चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को हार का मुंह देखना पड़ा है।



सूत्रों की अगर माने तो भारतीय जनता पार्टी को पंजाबी समाज पर ध्यान ना देने के कारण एंव टिकटों का सही चयन ना करने के कारण सदैव हार का मुंह देखना पड़ा है। औऱ जब भी पंजाबी समाज अपने समाज के लिए समान अधिकारों की बात करता है तो उसको धार्मिक हवाला देकर इमोशनल ब्लैकमेल कर मुद्दों से भटकाने का काम कर दिया जाता है। लेकिन इस बार सोशल मीडिया पर पंजाबी समाज के लिए कड़ा विरोध करते हुए देखे जा सकते है।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999