उत्तर प्रदेश: दलित दूल्हा बारात लेकर निकला,पूरा गांव देखता रह गया।

उत्तर प्रदेश: दलित दूल्हा बारात लेकर निकला,पूरा गांव देखता रह गया।

रिपोर्ट फराह अंसारी
कासगंज: कासगंज के सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के निजामपुर गांव में पहली बार किसी दलित की बारात निकली,जिसमें दूल्हा घोड़ी चढ़ कर पहुंचा हो। दलित दूल्हा संजय जाटव की बारात धूमधाम से बैंड बाजे के साथ पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दुल्हन के घर पहुंची। दुल्हन की तमन्ना थी कि उसका दूल्हा घोड़ी चढ़कर उसके घर आए। लेकिन, अभी तक निजामपुर गांव में दलितों को घोड़ी चढ़ने की इजाजत नहीं थी। दूल्हे ने पुलिस से सुरक्षा की गुहार लगाई, जिसके बाद जिला प्रशासन ने सुरक्षा देने का आश्वासन दिया। रविवार को जब बारात पहुंचने वाली थी उस दौरान गांव में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था।




कासगंज के एडिशनल एसपी पवित्र मोहन त्रिपाठी ने कहा कि शादी की रस्में पूरी होने तक पुलिस मौजूद रही। पुलिसकर्मियों की नजर गांव में हो रही हर गतिविधियों पर है। दुल्हन की विदाई होने तक निजामपुर गांव में पर्याप्त संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद रहेंगे। संजय जाटव और शीतल की शादी का मामला पिछले कई महीनों से सुर्खियों में है। इसके लिए संजय ने इलाहाबाद हाईकोर्ट तक का दरवाजा भी खटखटाया था।

विवाह संपन हो जाने के बाद दुल्हन के परिवारवाले खुश होने के साथ-साथ दहशत में भी हैं, क्योंकि गांव के ठाकुरों ने परिजनों को देख लेने की धमकी दी है। निजामपुर गांव में 40 ठाकुर परिवार और 5 परिवार जाटव के रहते हैं। इस गांव में आज तक दलितों की बारात नहीं निकली है। क्यंकि 80 सालों से निजामपुर गांव में किसी दलित की बारात नहीं निकली थी।


Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999