टीबी की बीमारी को 2025 तक खत्म करने का लक्ष्य।

रिपोर्ट फराह अंसारी
टीबी की बीमारी से पूरी दुनिया में हर साल लगभग १३ लाख लोगों की मौत हो जाती है। केवल भारत में ही वर्ष 2016 में टीबी के कारण चार लाख बीस हजार लोगों की मौत हो गई। मौत के कारणों के आधार पर देखा जाए तो सबसे अधिकतर लोगों की मौत का कारण बनने के मामले में टीबी नवें नंबर पर आता है। मामले की गंभीरता देखते हुए सरकार टीबी की बीमारी का उन्मूलन करना चाहती है। इसके लिए सरकार हर मरीज का समुचित इलाज सुनिश्चित करना चाहती है।

गरीब मरीजों का इलाज उचित पोषण के अभाव में बहुत कारगर नहीं रहता है। इसी कारण सरकार सभी टीबी के मरीजों को इलाज के दौरान 500 रुपये प्रति माह की सेवा उपलब्ध करा रही है। सरकार को उम्मीद है कि इससे टीबी के कारण होने वाली मौतों में कमी लाई जा सकेगी।

यह राशि सीधे मरीज के बैंक खाता में ट्रांसफर किये जायेंगे। अगर किसी व्यक्ति में टीबी के लक्षण पाए जाते हैं, उन्हें एक टीबी पेशेंट के रुप में रजिस्टर कर लिया जाता है। पहली किस्त के रुप में उसे 1000 रुपये की सहायता की जाती है। फिर उसके बाद बीमारी खत्म होने तक हर महीने आर्थिक मदद मिलती रहती है। इस योजना का लाभ लेने के लिए किसी मरीज के पास आधार कार्ड होने की अनिवार्यता नहीं है।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999