एसएसपी सहारनपुर दिनेश कुमार पी के रिजर्वेशन ब्रेक के बाद चिंता में जिले के चौकी इंचार्ज।

एसएसपी सहारनपुर दिनेश कुमार पी के रिजर्वेशन ब्रेक के बाद चिंता में जिले के चौकी इंचार्ज।

माजिद कुरैशी।
सहारनपुर।
जिला सहारनपुर एसएसपी दिनेश कुमार पी द्वारा कानून व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए सहारनपुर के लगभग सभी थानों में बड़ा फ़ेरबदल किया गया है। आपको बता दें कि शब्बीरपूर हिंसा के बाद जनपद में इतने बड़े स्तर पर कोई फ़ेरबदल नही किये जाने के कारण अपराध नियंत्रण करने में कमी की जगह बढ़ोतरी हो रही थी। जिससे एसएसपी दिनेश कुमार पी ने एक बड़ा बदलाव को आंकते हुए जिलें के सभी प्रमुख थानों से थाना प्रभारियों का स्थानान्तरण किया। जिससे रिजर्वेशन का भी खात्मा हो गया। वही, जिले में पिछले एक साल से हर थाने में विवादित रहे सब इंस्पेक्टर एमपी सिंह को एसएसपी दिनेश कुमार पी द्वारा लाइन का रास्ता दिखाया गया। दरअसल, इस बार एक समुदाय की लड़की प्रकरण में पक्षपात कार्रवाही करने की गाज एस आई एमपी सिंह पर गिरी है।

MODI VS RAHUL GANDHI 2019: देश की जनता किसे चुनना चाहती है प्रधानमंत्री।News Hawks 24

जबकि, विश्वनीय सूत्रों से मिली जानकरिनुसार लगातार अन्य थाना प्रभारियों द्वारा अवैध खनन,सट्टा,स्मैक,गौ-कसी एंव रात्रि चोरियों में कोई ठोस कार्रवाही ने करने के कारण एसएसपी ने इतने बड़े स्तर पर कार्रवाही की है। ताकि कानून व्यवस्था बेहतर हो सके।

अभी टूटना बाकी है चौकियों का रिजर्वेशन।

आपको बता दें कि पिछले एक साल से लगभग पूरे जिले में चर्चा चल रही है कि सहारनपुर में कुछ चौकी इंचार्ज हर महीने मोटी उगाही कर क्षेत्रा धिकारी के सहयोग से सीधे मामलों का निस्तारण कर रहे है। और मामलों के निस्तारण करने के सम्बंध में मोटी उगाही कर रहे है। विश्वसनीय सूत्रों की यदि माने तो चर्चा यह भी है कि जिले के कुछ क्षेत्राधिकारी चौकी इंचार्ज़ों की संरक्षण देने के साथ स्वयं भी मोटी उगाही करवा रहे है। आई जी आर एस शिकायतें थाना प्रभारी की अनुमति के बिना, भारी लेन देन के बाद निस्तारण करवाया जा रहा है जो कि जांच का विषय है। सूत्रों की यदि माने तो थाना देहात कोतवाली,थाना कुतुबशेर थाना बेहट,थाना सरसावा,थाना गंगोह,थाना नकुड की मुख्यतः चोकियाँ चर्चाओं में है।
एसएसपी दिनेश कुमार पी की कार्यवाही से भृष्ट चौकी इंचार्ज़ों में हड़कम्प मचा हुआ है। देखना यह है कि आखिर कब जिले की चौकियां भ्र्ष्टाचार मुक्त होती है।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999