नई दिल्ली: जैन मुनि तरुण सागर का 51 की उम्र में पीलिया की बीमारी से निधन।

नई दिल्ली: जैन मुनि तरुण सागर का 51 की उम्र में पीलिया की बीमारी से निधन।

रिपोर्ट फराह अंसारी
नई दिल्ली: जैनमुनि तरुण सागर का 51 साल की उम्र में निधन हो गया है। उन्होंने दिल्ली के कृष्णा नगर में अंतिम सांस ली। आज दोपहर बाद दिल्ली-मेरठ हाइवे के पास उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। तरुण सागर पीलिया से बीमार थे, जिसके बाद उनकी हालत नाजुक बनी हुई थी।




तरुण सागर एक संत होने के साथ ही देश-दुनिया के मुद्दों पर भी अपनी राय रखते थे। यहां तक कि देश की राजनीति में भी दखल रखते थे। वह दिल्ली से लेकर हरियाणा विधानसभा में उपदेश भी दे चुके हैं। हालांकि, कई बार उनके बयानों को लेकर विवाद भी हुआ है।

आतंकवाद पर एक बार उन्होंने कहा था कि जितने आतंकवादी पाकिस्तान में नहीं हैं, उससे ज्यादा गद्दार हमारे देश में मौजूद हैं। उन्होंने कहा था कि गद्दारों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए, ताकि आंतरिक आतंकवाद खत्म हो सके।



अपने एक बयान में उन्होंने ये भी कहा था कि देश के कुछ मुसलमान ऐसे हैं, जिनका हिंदुस्तान में मन नहीं लगता उन्हें पाकिस्तान भेज देना चाहिए। साथ ही उन्होंने ये भी कहा था कि जिन हिंदुओं का पाकिस्तान में मन नहीं लगता उन्हें हिंदुस्तान बुला लेना चाहिए।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999