नई दिल्ली: नाबालिग से रेप, फेक अकाउंट बनाकर सोशल मीडिया पर डाली अश्लील तस्वीरें।

नई दिल्ली: नाबालिग से रेप, फेक अकाउंट बनाकर सोशल मीडिया पर डाली अश्लील तस्वीरें।

रिपोर्ट फराह अंसारी
देश की राजधानी दिल्ली के नरेला में नाबालिग के साथ रेप के बाद उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल करने का मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक 14 वर्षीय नाबालिग लड़की पिछले साल नौवीं कक्षा में पढ़ती थी, इस दौरान बांकनेर गांव का एक लड़का एक दो बार बच्ची को अपनी कार में ले गया और उसके साथ रेप की वारदात को अंजाम दिया। लड़की का आरोप है कि लड़के ने जब उसके साथ रेप को अंजाम दिया तो कार में मौजूद लड़के के चाचा ने उसकी अश्लील तस्वीरें लीं।




लड़की का आरोप है कि इस घटना के बाद उसकी अश्लील फोटो वायरल करने की धमकी देकर वह लड़का रोज स्कूल की जगह उसे अपने साथ ले जाने लगा। परेशान होकर लड़की ने परिजनों को बताया कि एक लड़का स्कूल में उसे तंग करता है और उसके साथ जबरदस्ती करता है, लेकिन उसने रेप के बारे में जानकारी अपने माता पिता को नहीं दी। परिजनों ने जब बच्ची के साथ होने वाली छेड़खानी और जबरदस्ती की कोशिशों का पता चला तो उन्होंने अक्टूबर, 2017 को लड़की को स्कूल से हटा लिया।
झारखंड: दो नाबालिग बहनों के साथ 11 लोगो ने किया रेप।
पीड़ित परिवार का आरोप है कि लड़के ने लड़की के नाम से एक फेक अकाउंट बनाया और वहां उसकी अश्लील फोटो डाल दीं, इसके अलावा लड़की के पिता को अश्लील फोटो भेजकर धमकी दी गई। जिसके बाद पीड़ित परिवार शिकायत करने अलीपुर थाना पहुंचा लेकिन यहां भी उनकी मदद नहीं की गई। पीड़ित परिवार का आरोप है कि वे पिछले 3 दिन से थाने के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन पुलिस उनपर समझौता करने का दबाव बना रही है।

पीड़ित परिवार डरा हुआ है क्योंकि आरोपी का पिता एक नामी वकील है और उसने उन्हें धमकी दी है कि वह अपने बेटे को बचा लेगा साथ ही उन्हें कई अन्य केसों में फंसा देगा। आखिरकार परिवार ने महिला आयोग की मदद ली, जब इलाके के कई लोग और महिला आयोग की टीम थाने पर इकट्ठा हुई तब दिल्ली पुलिस ने इस लड़की के बयान दर्ज किए हैं।



जानकारी के मुताबिक आरोपी नरेला के बांकनेर गांव का रहने वाला है, साथ ही लड़की की फोटो खींचने वाले शख्स को भी आरोपी बनाया गया है। फिलहाल IPC 376 पॉक्सो में केस दर्ज कर अलीपुर थाना पुलिस पूरे मामले की जांच में जुटी है।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999