नई दिल्ली: दिल्ली में हवा कल से बेहतर लेकिन प्रदूषण लेवल अब भी खतरनाक स्तर पर, 3 दिन तक ट्रकों की एंट्री पर बैन।

New Delhi: Air in Delhi better than air but pollution level is still at hazardous level, for 3 days BAN on entry of trucks

रिपोर्ट फराह अंसारी
नई दिल्ली: दीवाली पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करके पटाखे चलाए जाने के बाद राजधानी दिल्ली की हवा और अधिक जहरीली हो गयी है। कल से लोगों को सांस लेने में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि आज हवा में कुछ सुधार हुआ है।



दीवाली के बाद दिल्ली का प्रदूषण स्तर पिछले साल की तुलना में करीब दो गुना रहा। गुरुवार को एक्यूआई 642 के आंकड़े पर दर्ज किया गया जबकि साल 2017 में (दीवाली के अगले दिन) एक्यूआई 367 पर जबकि 2016 में 425 पर दर्ज किया गया था।

आज की बात करें तो एक्यूआई आरके पुरम में 368, आनंद विहार में 995, पंजाबी बाग में 496, मंदिर मार्ग पर 474, शहादरा में 635, द्वारका में 401, सोनिया विहार में 370, वजीरपुर में 541 और फरीदाबाद में 406 रहा।

वायु गुणवत्ता के इस श्रेणी में पहुंचने का मतलब यह है कि इस जहरीली हवा में ज्यादा देर तक रहने से स्वस्थ लोगों को भी सांस संबंधी बीमारियां हो सकती हैं। यह हवा बीमार व्यक्तियों को और भी प्रभावित करेगी।

शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’ माना जाता है, 51 और 100 के बीच इसे ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’ माना जाता है, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘काफी खराब’ और 401 और 500 के बीच इसे ‘अत्यंत गंभीर’ माना जाता है।

दीवाली के बाद पहली सुबह में देश के कई भागों में जहरीली धुंध छाई रही और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली तथा एनसीआर में प्रदूषण ‘‘गंभीर ’’ स्तर को पार कर ‘‘बेहद गंभीर और ‘‘आपात ’’स्तर तक पहुंच गया।

अधिकारियों ने कहा कि पटाखों, पड़ोसी राज्यों में पराली जलाने और मौसम की स्थानीय स्थितियों के जहरीले मिश्रण के कारण राष्ट्रीय राजधानी और इसके आसपास के क्षेत्रों में प्रदूषण का स्तर ‘‘अत्यंत गंभीर और आपातकालीन’’ (सीवियर प्लस एमरजेंसी) श्रेणी में प्रवेश कर गया जो अनुमति की सीमा से दस गुना अधिक है।




सुप्रीम कोर्ट ने देशभर में ‘‘पर्यावरण अनुकूल’’ पटाखों की बिक्री और निर्माण की अनुमति दी थी और आतिशबाजी के लिए दो घंटे का समय तय किया था। हालांकि आदेश का उल्लंघन करते हुए लोगों ने रात आठ से दस बजे तक की समयसीमा के दो घंटे बाद मध्यरात्रि तक पटाखे चलाए।

Facebook Comments