news hawks 24

मेरठ: जिला अदालत को बम से उड़ाने की धमकी मिली।

रिपोर्ट फराह अंसारी
मेरठ: वकील के चेंबर पर चिपकी एक चिट्ठी के जरिये मेरठ की जिला अदालत को बम से उड़ाने की धमकी मिली है। चिट्ठी की जानकारी मिलते ही एसपी सिटी के नेतृत्व में कई घंटे कचहरी में चेकिंग की गई, लेकिन बम नहीं मिला. बताया जा रहा है कि किसी अपराध में उम्रकैद की सजा होने के बाद कोई अपराधी वकील के चेंबर को बम से उड़ाना चाहता है।



“आज कचहरी में हमने बम रखा है. हमारा दोस्त को जेल भेजा था, आज कचहरी गई..मजाक मत समझना..मौत ही मौत” ये मजमून उस चिट्ठी का है जो मेरठ बार संघ के पूर्व अध्यक्ष धीरेन्द्र तौमर के चेंबर की दीवार पर चिपकी हुई मिली है। जिसने भी इस चिट्ठी को पढ़ा, उसके होश-फाख्ता हो गये। तत्काल 100 डायल पर पुलिस को सूचना दी गई।अंदेशा यह था कि किसी ने कचहरी में बम रख दिया है और धमाका करके कचहरी को उड़ाना चाहता है।

सूचना मिलते ही मौके पर एसपी सिटी कुमार रणविजय सिंह पहुंच गये। सिविल लाइंस थाने का फोर्स मौके पर बुलाया गया और कचहरी में मौजूद चौकी पुलिस और पीएसी के जवानों के साथ पूरी कचहरी में सघन चेकिंग अभियान चलाया गया। पान-बीड़ी की दुकान, चाय-पकौड़ी की दुकान, खोमचे वाले, यहां तक की कचहरी परिसर और उसके बाहर पार्किंग में खड़ी गाड़ियों की भी तलाशी ली गई। लेकिन पुलिस को कोई आपत्तिजनक चीज नहीं मिली। वकीलों के चैंबरों में भी डॉग-स्क्वॉएड लेकर चेकिंग की गई।




पुलिस ने चेकिंग के दौरान कचहरी परिसर में कुछ संदिग्धों को भी हिरासत में लिया और फिर उनसे पूछताछ की। मगर धमकी से संबधित कुछ भी जानकारी नहीं मिली। एसपी सिटी कुमार रणविजय सिंह ने बताया कि चिठ्ठी के मजमून को देखकर लगता है कि कोई सजा होने बाद किसी अधिवक्ता या कोर्ट से नाराज है और रंजिशन ऐसी चिट्ठी लिखकर कचहरी में कार्यरत लोगों में दहशत फैलाना चाहता है। इस मामले में चेकिंग के दौरान कुछ भी संदिग्ध नहीं मिला है। फिर भी पुलिस और पीएसी को कचहरी में संदिग्धों पर नजर रखने और लगातार चेकिंग करके के निर्देश दिये हैं। मामले में अधिवक्ता की तहरीर पर केस भी दर्ज किया जा रहा है।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999