लखनऊ: उत्तर प्रदेश में बना माटी कला बोर्ड, प्लास्टिक कप की जगह कुल्हड़ का होगा प्रयोग।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में बना माटी कला बोर्ड, प्लास्टिक कप की जगह कुल्हड़ का होगा प्रयोग।

फराह अंसारी
लखनऊ: यूपी सरकार ने प्रदेश में माटी कला एवं माटी शिल्प कला से संबंधित उद्योगों के विकास के लिए माटी कला बोर्ड का गठन कर दिया है। प्लास्टिक कप के स्थान पर मिट्टी के कुल्हड़ों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

माटी कला बोर्ड के संचालक मंडल भी तय कर दिए गए हैं। इस बोर्ड के अध्यक्ष खादी एवं ग्रामोद्योग विभाग के मंत्री अथवा शासन द्वारा नामित प्रतिनिधि होंगे। इस संबंध में शासन की ओर से अधिसूचना जारी कर दी गई।



इनके अलावा अशासकीय सदस्य के रूप में माटी कला, माटी शिल्प कला, फाइन आर्ट्स, समाज सेवा से जुड़े हुए व्यक्तियों एवं विशेषज्ञों के अधिकतम 10 सदस्यों को शासन द्वारा नामित किया जाएगा। कुटीर एवं ग्रामीण उद्योग के मुख्य कार्यपालक अधिकारी को बोर्ड के पदेन महाप्रबंधक को सदस्य सचिव बनाया गया है।

नवनीत सहगल ने बताया कि प्रदेश में मिट्टी का कार्य करने वाले कारीगरों एवं शिल्पियों के व्यवसाय में वृद्धि करने, कलाकारों की परम्परागत कला को संरक्षित एवं संवर्धित करना इस बोर्ड का मुख्य उद्देश्य है। इसके साथ ही इन कारीगरों एवं शिल्पियों की सामाजिक सुरक्षा, आर्थिक सुदृढ़ता एवं तकनीकी विकास को बढ़ावा देने, विपणन आदि की सुविधा उपलब्ध कराने तथा परम्परागत उद्योगों को नवाचार के माध्यम से अधिकाधिक लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे।



उन्होंने बताया कि यह बोर्ड माटी कला एवं माटी शिल्प कला से संबंधित उद्योगों के विकास के लिए नीति तैयार करेगा। मिट्टी की उपलब्धता की नीति, तकनीकी उन्नयन एवं आधुनिकीकरण की प्रभावी योजना बनाएगा। मिट्टी का कार्य करने वाले लोगों को आवश्यक सुविधाएं एवं सेवाएं सुलभ कराने, कारीगरों तथा इस उद्योग की समस्याओं के निराकरण के लिए सुझाव देना और रोजगार प्रदान करने हेतु कार्य करने वाली केन्द्रीय एवं प्रांतीय संस्थाओं से समन्वय स्थापित करना बोर्ड का प्रमुख उद्देश्य होगा।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999