लोकसभा चुनाव 2019: गठबंधन के बाद सहारनपुर की सीट बसपा के खाते में, कैराना पर फंसा पेंच

लोकसभा चुनाव 2019: गठबंधन के बाद सहारनपुर की सीट बसपा के खाते में, कैराना पर फंसा पेंच

लखनऊ।
आगामी लोकसभा चुनाव 2019 के लिए चुनावी फाइल लगभग फाइनल हो चुके है। बसपा और सपा के गठबंधन में पश्चिमी उप्र की किस सीट पर कौन सी पार्टी लड़ेगी, यह भी लगभग फाइनल हो चुका है। सूत्रों की यदि मानें तो अधिकतर प्रत्याशियों के नाम पर भी विचार चल रहा है। आपको बता दें कि पिछले शनिवार को गठबंधन पर अंतिम मुहर लग चुकी है, अब बस केवल कुछ सीटों पर अभी मंथन चल रहा है। सूत्रों की मानें तो रालोद को भी इस गठबंधन में अहम स्थान दिया जाना अभी प्रस्तावित है। लोकसभा 2019 चुनाव के संग्राम की रणभूमि लगबग अब तैयार हो चुकी है। बसपा सुप्रीमो मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बीच 38-38 सीटों का बंटवारा हो चुका है। दो सीटों पर चुनाव न लड़ने की बात है और तीन सीटें देकर रालोद को भी इसमें शामिल करने की बात कही जा रही है। कहा यह जा रहा है कि रालोद इससे संतुष्ट नहीं है।

कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने बताया गठबंधन को ठग बंधन
इमरान मसूद ने कहा प्रधानमन्त्री पाकिस्तान जाकर खाते है बिरयानी






गठबंधन के बाद कुछ इस तरह बना रहा है समीकरण
पार्टी सूत्र बता रहे हैं कि पश्चिमी यूपी की भी अधिकतर सीटें तय हो गई हैं। जिसमें
मेरठ हापुड़ लोकसभा सीट का टिकट बसपा

बिजनौर और नगीना में से एक सपा और एक बसपा

चर्चा यह भी है कि बसपा दोनों सीटों पर दावा कर रही है।

बुलंदशहर सीट बसपा के खाते में

गौमबुद्धनगर पर भी बसपा किसी गुर्जर उम्मीदवार को लड़ाने के प्रयास में है।

सहारनपुर भी इसी तरह से बसपा के खाते में है।

बागपत रालोद के खाते में सुरक्षित की गई है।

कैराना सीट पर पेंच फंसा है।

यहां रालोद अपना दावा कर रही है तो सपा इसे अपनी सीट मान रही है।

अमरोहा सपा के खाते में जा रही है।

मथुरा पर रालोद को लड़ाने की बात कही जा रही है।

संभल, रामपुर, मुरादाबाद भी समाजवादी पार्टी को दिए जाने की चर्चा है।

हाथरस और आगरा सीट को लेकर मंथन चल रहा है।

इसमें से एक सपा को दी जाएगी तो दूसरी बसपा के खाते में जाएगी। हाथरस से पूर्व में लड़ चुके सपाई दिग्गज पर यह बात आकर टिकी है कि वह कहां से इस बार लड़ने के मूड में हैं। यह चुनावी आंकड़े विश्वसनीय सूत्रों के हवालें से है जिनमें मात्र 19-20 का अंतर रह सकता है अनुमानित यह आंकड़े कन्फर्म भी साबित हो सकते है।

कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने बताया गठबंधन को ठग बंधन
इमरान मसूद ने कहा प्रधानमन्त्री पाकिस्तान जाकर खाते है बिरयानी




Please follow and like us: