केरल: केरल में बाढ़ की तबाही का हवाई जायजा लेने प्रधानमंत्री मोदी कोच्चि पहुंचे।

केरल: केरल में बाढ़ की तबाही का हवाई जायजा लेने प्रधानमंत्री मोदी कोच्चि पहुंचे।

बाढ़ पीड़ित को सुरक्षित स्थान पर ले जाते नौसेना।
बाढ़ पीड़ित को सुरक्षित स्थान पर ले जाते नौसेना।
रिपोर्ट फराह अंसारी
केरल: केरल में बारिश और बाढ़ से अब तक 324 लोगों की मौत हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद स्थिति का जायजा लेने कि लिए केरल में हैं। आज सुबह वे तिरुवनंतपुरम से कोच्चि पहुंचे। पीएम मोदी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक के बाद हवाई सर्वेक्षण करेंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि केरल के लोगों के दुख दर्द पर पिछले कुछ दिनों से पीएम का ध्यान है। मोदी कल शाम पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के अंतिम संस्कार में हिस्सा लेने के बाद केरल रवाना हुए थे। केरल मानसूनी वर्षा से बेहद प्रभावित हुआ है। राज्य का बड़ा हिस्सा जलमग्न है।



एनडीआरएफ कर्मियों के अलावा सेना, नौसेना, वायुसेना के कर्मियों ने बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित इलाकों में अपने-अपने घरों की छतों, ऊंचे स्थानों पर फंसे लोगों को निकालने का कार्य शुरू किया। ऊंचाई वाले इलाकों में पहाड़ों के दरकने के कारण चट्टानों के टूटकर नीचे सड़क पर गिरने से सड़कें अवरुद्ध हो गयीं जिससे वहां रहने वालों और गांवों में बचे लोगों का संपर्क बाकी की दुनिया से कट गया।

केरल से सटे कर्नाटक के कोडगू जिले में बाढ़ एवं भूस्खलन के कारण फंसे लोगों को बचाने के लिये सेना बचाव अभियान में जुट गयी है। अधिकारियों ने आज बताया कि कोडगू जाने वाली सभी बड़ी सड़कें अवरुद्ध हो गयी हैं और वहां व्यापक बचाव अभियान शुरु किया गया है। अभियान में सेना की डोगरा रेजीमेंट की एक टुकड़ी समेत विभिन्न एजेंसियां बचाव अभियान में लगी हुई हैं।



पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बाढ़ग्रस्त केरल के लिए दस करोड़ रूपये की तत्काल सहायता मुहैया कराने का ऐलान किया है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केरल में भयावह बाढ़ से हुए जानमाल के भारी नुकसान पर दुख जताया और राज्य के पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे बढ़ें। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बाढ़ से तबाह केरल के लिए 10 करोड़ रुपये की सहायता की घोषणा की है।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999