Jaipur: A big disclosure in the bank manager's assassination, the wife gave the warrant to grab the property.

जयपुर: बैंक मैनेजर हत्याकांड में बड़ा खुलासा, पत्नी ने संपत्ति हथियाने के लिए वारदात को दिया अंजाम।

रिपोर्ट फराह अंसारी
राजस्थान की राजधानी जयपुर में बैंक मैनेजर की हत्या को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। बैंक मैनेजर की हत्या के पीछे उसकी पत्नी थी। पत्नी ने संपत्ति हथियाने के लिए इस वारदात को अंजाम दिया है। पुलिस ने खुलासा किया है कि बैंक मैनेजर रोशन लाल यादव की हत्या उसकी पत्नी निर्मला यादव ने करवाई थी।

दरअसल निर्मला यादव के पड़ोस में रहने वाले उमेश से अवैध संबंध थे, जिसकी वजह से रोशन लाल और उसकी पत्नी निर्मला में आए दिन झगड़ा होता रहता था। बाद में उमेश अपना घर बदल कर जयपुर के मानसरोवर में चला गया, लेकिन निर्मला और उमेश के बीच मुलाकात होती रहती थी।




32 साल की निर्मला ने 38 साल के उमेश शर्मा के साथ मिलकर उत्तर प्रदेश के शार्प शूटर को बुलाकर अपनी पति की हत्या करवाने की साजिश रची। निर्मला अपने पति की हर खबर शार्प शूटर को देती रहती थी।

इस मामले में आरोपी उमेश, उसके सगे भाई राहुल और भांजे सनी समेत चार लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि घरवालों ने निर्मला पर शक जाहिर किया था। परिवार के शक के बाद जांच में पता चला कि रोशन से निर्मला के झगड़े होते रहते थे।

उमेश अपने दोस्त महेंद्र प्रताप के साथ 8 सितंबर को उत्तराखंड के अल्मोड़ा चला गया था, जहां उसका साला आकाश रावत रहता है और उसी ने वहां बैठकर भाई और भांजे से हत्या करवाई थी।

बैंक मैनेजर रोशनलाल ब्याज पर पैसे देता था और करीब 50 लाख रुपये बाजार में दे रखे थे। पत्नी निर्मला को प्रेमी और संपत्ति दोनों की चाहत थी। इसलिए उसने पति से अलग होने के बजाय हत्या करवाना ही ठीक समझा।

आरोपी उमेश का भाई राहुल कपड़े का कारोबार करता था जिसपर काफी कर्ज हो गया था। वह उत्तर प्रदेश का रहने वाला है और अपना कर्ज चुकाने के लिए भाई से 4 लाख रुपये की सुपारी ली थी और उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद से शार्प शूटर को बुलाया, लेकिन सालों ने 4 लाख के बजाय 15 लाख की मांग की।



राहुल खुद 4 लाख रुपए के लिए मर्डर कर दिया। मौत के बाद निर्मला पुलिस के सामने दुखी होने के लिए तरह-तरह के नाटक कर रही थी। निर्मला की इस हरकत से पुलिस को शक हो गया था। उमेश का कहना है कि वह रोशन लाल को नहीं मारना चाहता था लेकिन निर्मला लगातार दबाव बना रही थी।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999