इंडियन-नेवी को मिलेंगे 111 हेलिकॉप्टर्स

इंडियन-नेवी को मिलेंगे 111 हेलिकॉप्टर्स, हुई 21 हजार करोड़ की डील

नई दिल्ली:
भारत रक्षा मंत्रालय ने अपनी आर्मी और नौसेना के लिए बड़ी खरीदी को मंजूरी दी है। इसमें नौ-सेना के लिए 111 बहुउद्देशीय आधुनिक तकनीक के हेलिकॉप्टर और लगभग 150 आर्टिलरी गन सिस्टम खरीदे जाएंगे। एक मीडिया रिपोर्ट से मिली जानकारी के मुताबिक, हेलिकॉप्टर डील पर लगभग 21 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे। रक्षा मंत्रालय द्वारा कुल 46 हजार करोड़ रुपये की खरीदी प्रस्तावों को मंजूरी दी गई है, इसी में हेलिकॉप्टर डील भी शामिल है।



बॉलीवुड: बॉलीवुड स्टाइलिश एक्ट्रेस नेहा धूपिया प्रेग्नेंट, शेयर की बेबी बंप फोटो।
भारतीय सेना के लिए साजो-समान की खरीदी करने का यह फैसला रक्षा अधिग्रहण परिषद (DAC) की एक मीटिंग में लिया गया है। डीएसी ही सेना से जुड़ी खरीदी पर फैसला करने वाली सबसे बड़ी बॉडी है। एक सीनियर अधिकारी ने डील के बारे में बताया, ‘डीएसी ने 111 हेलिकॉप्टर्स की खरीद को मंजूरी दी है, इसमें 21 हजार करोड़ रुपये का खर्च होगा।’ सामरिक भागीदारी के तहत मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस का यह पहला प्रॉजेक्ट है, जिसका मुख्य उद्देश्य मेक इन इंडिया प्रोग्राम को बढ़ावा देना है।



बलिया: उत्तर प्रदेश के बलिया की मतदाता सूची में दिखी सनी लियोनी की फोटो।
वहीं, डीएसी ने कुछ अन्य खरीदी प्रस्तावों को भी मंजूरी दी है, जिनमें लगभग 24,879 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसमें आर्मी के लिए 155mm वाली उन्नत 150 आर्टिलरी गन भी खरीदी जाएंगी। उन्हें स्वदेश में ही डिजाइन और विकसित किया जाएगा। इन गन्स को डिफेंस एंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) द्वारा डिजाइन और विकसित किया जाएगा। इसपर लगभग 3,364 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इसके साथ 14 वर्टिकल लॉन्च होनेवाली शॉर्ट रेंज मिसाइल सिस्टम की खरीद को भी डीएसी की मंजूरी मिली है। इनमें से 10 सिस्टम भी स्वदेशी होंगे।



बरेली: नाराज कांवड़ियों ने धर्म परिवर्तन की धमकी दी कहा, इस्लाम धर्म कबूल करेंगे।
यहाँ आपको बता दें कि यह खरीदी काफी लंबे वक्त से लटकी हुई थी, पिछले साल अगस्त में नेवी ने 111 यूटिलिटी (बहुउद्देशीय) और 123 मल्टी रोल हेलिकॉप्टर्स की खरीद के लिए रिक्वेस्ट फॉर इन्फ़र्मेशन (RFI) दिया था। इससे पहले भी इसी खरीदी के लिए 2011 और 2013 में भी RFI जारी हुआ था।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999