अमरोहा: पिता ने बनाया अपनी नाबालिग बेटी को हवस का शिकार।

अमरोहा: पिता ने बनाया अपनी नाबालिग बेटी को हवस का शिकार।

फराह अंसारी
अमरोहा: यूपी के जिला अमरोहा से पिता द्वारा अपनी ही नाबालिग बेटी से रेप करने का स्तब्ध कर देने वाला मामला सामने आया है। नाबालिग बच्ची की मां ने अपने पति के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। पुलिस ने केस दर्ज कर आरोपी पिता को गिरफ्तार कर लिया है।

गुरुवार को नाबालिग की मां कुछ काम से अपने भाई के पास रामपुर गई हुई थीं। मां के चले जाने से घर में सिर्फ पिता और उसकी 13 साल की बेटी ही रह गए थे। पीड़िता ने बताया कि रात में वह पूरी नींद में सोई हुई थी। कलयुगी पिता ने बेटी के नींद में बेसुध होने का फायदा उठाया और अपनी हवस का शिकार बना डाला।

अगले दिन जब लड़की की मां घर लौटीं तो पिता की हैवानियत की शिकार बेटी ने मां को पूरी आपबीती कह सुनाई। बेटी के साथ घटी घटना के बारे में पता चलते ही मां ने पुलिस में अपने पति के खिलाफ ही शिकायत दर्ज करवा दी।



शुरुआती जांच में सामने आया है कि आरोपी पिता को शराब की लत है और पिछले कई महीनों से वह बेरोजगार भी चल रहा था। पुलिस ने जिला अस्पताल में पीड़िता का मेडिकल करवाया, जिसमें रेप की पुष्टी हुई है। रेप पीड़िता ने भी अपने पिता के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

इसी महीने के पहले हफ्ते में हरियाणा के कैथल से भी इसी तरह की घटना सामने आई थी। यहां एक वहशी पिता अपनी ही नाबालिग बेटी को दो साल से हवस का शिकार बना रहा था।एक दिन आधी रात को जब आरोपी अपनी बेटी को जबरन दूसरे कमरे में ले जाकर रेप करने लगा तो बच्ची की चीख सुनकर मां आ गई। पत्नी के आते ही आरोपी फरार हो गया।

कैथल जिले के थाना गुहला के एक गांव में अपने परिवार के साथ रहने वाली 15 वर्षीय पीड़िता चार भाई-बहनों में सबसे बड़ी है। 8वीं तक पढ़ाई के बाद वह घर पर रहने लगी थी। करीब दो साल पहले एक दिन मां बाहर गई थी। उसी दौरान मौके का फायदा उठाकर दरिंदे पिता ने उसे घर में अकेला देखकर उसको अपनी हवस का शिकार बना डाला।



बच्ची दो साल तक दरिंदे पिता की हैवानियत को इसलिए सहती रही, क्योंकि हैवान पिता ने उसे धमकी दी थी कि किसी को इस बारे में बताया तो जान से मार देगा। डर की वजह से पीड़िता ने किसी से कुछ नहीं कहा और उसकी दरिंदगी सहती रही। लेकिन सब्र का बांध टूटने पर उसने शोर मचा कर अपनी मां को सब बता दिया।

Facebook Comments

मामले (भारत)

67152

मरीज ठीक हुए

20917

मौतें

2206

मामले (दुनिया)

3,917,999