गठबंधन पर बोले अखिलेश, ‘ केवल 25 मिनट में खत्म हुई 25 साल पुरानी दुश्मनी’

गठबंधन पर बोले अखिलेश, ' केवल 25 मिनट में खत्म हुई 25 साल पुरानी दुश्मनी'

लखनऊ: बसपा से किये गठबंधन पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि 25 साल पुरानी दुश्मनी को भुलाने में हमने मात्र सिर्फ 25 मिनट लगायें। यह सब 4 जनवरी को दिल्ली में मायावती से हुई मुलाकात के दौरान हुआ था।




मायावती से गठबंधन पर बोले अखिलेश, नीयत साफ हो तो कुछ भी संभव है

अखिलेश ने कहा, 4 जनवरी को 25 मिनट चली मीटिंग में तय हुआ पूरा खाका

ना सिर्फ केंद्र बल्कि यूपी में भी बीजेपी सरकार को इस गठबंधन से खतरा: अखिलेश

लखनऊ: बसपा सुप्रीमों मायावती के साथ बरसों पुरानी दुश्मनी भुलाकर गठबंधन करने के बाद अखिलेश यादव मानते हैं कि अगर नीयत साफ हो और इरादे नेक हों तो असंभव भी संभव हो सकता है। एक इंटरव्यू में अखिलेश ने कहा, ‘सिर्फ 25 मिनट में हमने अपनी 25 साल पुरानी दुश्मनी भुला दी। यह सब हमारी 4 जनवरी को दिल्ली में हुई मुलाकात के दौरान हुआ। यहीं हमने अपने सीट शेयरिंग फॉर्म्युले को अमली जामा पहनाया था।’

अखिलेश ने इंटरव्यू में बताया कि मार्च 2018 में फूलपुर-गोरखपुर में बीजेपी को चुनाव हराने के बाद और 4 जनवरी दिल्ली में मुलाकात के बीच वह मायावती से सिर्फ एक बार मिले। अखिलेश ने कहा कि यह गठबंधन इतना मजबूत और प्रभावी है कि ना सिर्फ केंद्र में बीजेपी सरकार को गिराएगा बल्कि भाजपा को राज्य में योगी आदित्यनाथ की सरकार को भी बचाना मुश्किल होगा।

कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने कहा प्रधानमंत्री मोदी पाकिस्तान जाकर खाते है बिरयानी

प्रधानमन्त्री के पास अपनी माँ के पैर छूने का समय नही-इमरान मसूद



‘मैं योगी जितना नहीं गिर सकता-अखिलेश’
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, ‘गठबंधन की मजबूती के अलावा जो चीज राज्य में बीजेपी की हार सुनिश्चित करेगी, वह है किसानों की नाराजगी।’ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भले ही कई बार इस गठबंधन पर को निशाने पर लिया हो, लेकिन अखिलेश कहते हैं कि मुझे उकसाना इतना आसान नहीं है। उन्होंने कहा, ‘मैं योगी के जितना नीचे नहीं गिर सकता, वह जिस तरह मेरे और मायावती के बारे में भाषा इस्तेमाल करते हैं, सबको पता है।’

‘सीबीआई नहीं चाहती थी मेरे खिलाफ कोई जांच,सीबीआई पर भाजपा ने दबाव डाला’

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने खनन घोटाले की सीबीआई जांच पर कोई टिप्पणी करने से इनकार किया। हालांकि उन्होंने कहा, ‘मुझे पता चला है कि सीबीआई पहले मुझे इसमें नहीं खींचना चाहती थी, लेकिन बाद में ऊपर से आदेश दिए गए कि एफआईआर में खनन आवंटन करने वाले मंत्रियों की भी जांच हो सकती है, ऐसी एक लाइन जोड़ी जाए।’

खेल तो आपने भुत देखें होंगे लेकिन क्या कभी कैदियों का खेल आपने देखा तो नीचे दी गई विडियो जरुर देखे



उत्तर प्रदेश की जनता ने भाजपा पर किये वार देखें पूरा विडियो

अखिलेश यादव मानते हैं कि एसपी-बीएसपी के बीच बरसों पुरानी दुश्मनी का कोई असर उनकी इस नई दोस्ती की सफलता पर नहीं पडे़गा। उन्होंने कहा, ‘हम दोनों (एसपी-बीएसपी) बरसों से एक-दूसरे के खिलाफ लड़ते आए हैं। मगर अब हम साथ हैं। इसे मजबूत करने के लिए मैंने साफ कह दिया है कि मायावती जी का अपमान मेरा अपमान होगा।’

अखिलेश यादव ने कन्नौज लोकसभा सीट से लड़ने के सवाल पर कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने कहा कि पार्टी को अभी तय करना है कि मेरी पत्नी डिंपल यादव (वर्तमान कन्नौज सांसद) वहां से दोबारा उतरेंगी या नहीं। हालांकि पहले अखिलेश कह चुके हैं कि वह डिंपल को अगले लोकसभा चुनावों में ना उतारकर परिवारवाद के आरोपों का जवाब देंगे।

Please follow and like us: